इमाम ने कहा- नरसंहार मुल्क के प्रति मुस्लिम समुदाय के प्रेम को डिगा नहीं पाएगा।

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में जुम्मे की नमाज के दौरान हमले का शिकार हुई एक मस्जिद के इमाम ने शनिवार को कहा कि यह नरसंहार न्यूजीलैंड के प्रति मुस्लिम समुदाय के प्रेम को डिगा नहीं पाएगा।

लिनवुड मस्जिद के इमाम इब्राहिम अब्दुल हलीम ने कहा, ‘‘हम अब भी इस देश से प्रेम करते हैं।’’ने संकल्प जताया कि चरमपंथी ‘‘हमारे विश्वास को भी छू नहीं पाएंगे’’।

हलीम ने हमले के भयावह दृश्य के बारे में बताते हुए कहा,‘‘सभी जमीन पर लेट गए, कुछ महिलाएं रोने लगीं, कुछ लोगों की तत्काल मौत हो गई।’’उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के मुसलमान न्यूजीलैंड को अब भी अपना घर मानते हैं। 

हलीम ने कहा, ‘‘मेरे बच्चे यहां रहते हैं। हम खुश हैं।’’उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के अधिकतर लोग ‘‘हमारी मदद करने और एकजुटता बनाए रखने के इच्छुक हैं।’’ 

हलीम ने बताया कि शनिवार को अजनबियों ने भी उन्हें गले लगाया। उन्होंने कहा,‘‘उन्होंने शुरुआत मुझे गले लगाकर की। यह एकजुटता बहुत महत्वपूर्ण है।’’ 

हमला करने वाला आरोपी ऑस्ट्रेलिया का मूल निवासी है,वह पकड़ा जा चुका है और उसका नाम बर्नेट हैरीसन है। उसे जब आज अदालत में पेश किया गया था तो उसके चेहरे पर अपने द्वारा किए गए अपराध को लेकर कोई पश्चाताप नहीं था। 

ज्ञात हो की दरिंदों ने क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में हमला किया था जिसमें, लगभग 49 लोगों की मौत हो गई है।नरसंहार करने का मुख्य आरोपी 28 वर्षीय ब्रेंटन टैरेंट ऑस्ट्रेलियाई मूल का व्यक्ति है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है और शनिवार सुबह उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां बंद कमरे में सुनवाई हुई।

इस हमले में भारतीय मूल के 9 लोग भी लापता बताए जा रहे हैं. न्यूजीलैंड में भारतीय राजनयिक ने इस बात की जानकारी दी है।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget