उत्तर प्रदेश के इस गांव BJP वालों का आना सख्त मना है


नोएडा।।केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा भले ही संसद में उनके इलाके के प्रतिनिधि हों और भले ही उनके गांव को उन्होंने गोद लिया हो फिर भी कचहैड़ा गांव के लोग उनसे खासे नाराज हैं और उनके खिलाफ पोस्टर लगाकर साफ कर दिया है कि अब यहां उनका स्वागत नहीं होगा। दरअसल इस विरोध की कहानी तब शुरू हुई जब एक रीयल्टी कंपनी और ग्रामीणों के बीच लड़ाई हो गई। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर के कचहैड़ा में अक्टूबर 2018 में हुई हिंसा के मामले में 86 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसे लेकर ग्रामीणों में आज भी आक्रोश है।

प्रदर्शन अब भी जारी है और करीब दो दर्जन पुरुष एवं महिलाएं, युवा एवं बुजुर्ग अपने लोकसभा सांसद के खिलाफ रूक-रूक कर नारेबाजी कर रहे हैं। एक पोस्टर में लिखा है, 'महेश शर्मा के गोद लिए गांव कचहैड़ा में भाजपा वालों का आना सख्त मना है।' इस तरह के पोस्टर गांव के कई स्थानों पर लगे दिख रहे हैं। ग्रामीणों का गुस्सा मुख्यत: शर्मा के खिलाफ है जो विकास नहीं होने के लिए उन्हें जिम्मेदार मानते हैं।

शर्मा ने पीटीआई से कहा, 'वहां विकास धीमा है, फिर भी काफी काम किया गया है।' स्थानीय लोगों ने कहा कि उन्होंने 2010 में अपनी जमीन एक निजी बिल्डर को बेच दी थी और उन्हें मुआवजा मिला था। 
केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा

उनसे वादा किया गया था कि सड़क, पेयजल, स्वास्थ्य सुविधाएं, सामुदायिक केंद्र, एक डिग्री कॉलेज, खेल का मैदान और सुविधाओं से युक्त श्मशान घाट का निर्माण किया जाएगा। सेवानिवृत्त स्कूल शिक्षक धर्मपाल सिंह ने कहा कि बिल्डर ने केवल सड़क बनवाई और वह भी घटिया किस्म की जिस पर बारिश के समय पानी भर जाता है।
Source:TIMESNOW 

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget