भाजपा से अलग राय रखना देश-द्रोह नहीं-लाल कृष्ण आडवाणी

पढ़िए,लाल कृष्ण आडवाणी का ब्लॉग हिंदी में।


लाल कृष्ण आडवाणी ने 2015 के बाद पहली बार अपने ब्लॉग पर कोई पोस्ट डाली है। अपने ब्लॉग में भाजपा के मौजूदा तौर तरीक़ों पर दबे लफ़्ज़ों में, लेकिन साफ़-साफ़ सवाल उठाए हैं। 'राष्ट्र सबसे पहले, फिर दल और अंत में मैं' के शीर्षक वाले इस ब्लॉग में आडवाणी ने 6 अप्रैल को बीजेपी की स्थापना दिवस का हवाला देते हुए याद दिलाया कि वो भारतीय जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी दोनों के संस्थापक सदस्य हैं और लगभग पिछले सत्तर साल से देश की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने गांधीनगर के लोगों का शुक्रिया अदा किया जहां से वो 6 बार सांसद रहे।

पढ़िए,लाल कृष्ण आडवाणी का ब्लॉग हिंदी में।
पहले राष्ट्र, फिर पार्टी,अंत में मैं
6 अप्रैल को भाजपा अपना स्थापना दिवस मनाएगी। भाजपा में हम सभी के लिए यह महत्वपूर्ण अवसर है कि हम पीछे देखें, आगे देखें और भीतर देखें। भाजपा के संस्थापकों में से एक के रूप में भारत के लोगों के साथ अपने विचारों को साझा करना मेरा कर्तव्य है और विशेष रूप से मेरी पार्टी के लाखों कार्यकर्ताओं के साथ, दोनों ने मुझे अपने स्नेह और सम्मान के साथ ऋणी किया है।

अपने विचारों को साझा करने से पहले मैं गांधीनगर के लोगों के लिए अपना आभार व्यक्त करने का यह अवसर लेता हूं, जिन्होंने 1991 के बाद छह बार मुझे लोकसभा के लिए चुना है। उनके प्यार और समर्थन ने मुझे हमेशा अभिभूत किया है। 

14 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में शामिल होने के बाद से मातृभूमि की सेवा करना मेरा जुनून और मेरा मिशन रहा है। मेरा राजनीतिक जीवन लगभग सात दशकों से मेरी पार्टी के साथ अविभाज्य रूप से जुड़ा रहा है- पहले भारतीय जनसंघ के साथ, और बाद में भारतीय जनता पार्टी के साथ और मैं दोनों का संस्थापक सदस्य रहा हूं। पंडित दीनदयाल उपाध्याय, श्री अटल बिहारी वाजपेयी जैसे दिग्गजों और कई अन्य महान, प्रेरणादायक और नि:स्वार्थ नेताओं के साथ मिलकर काम करना मेरा दुर्लभ सौभाग्य रहा है। 
मेरे जीवन का सिद्धांत 'राष्ट्र प्रथम, फिर पार्टी और स्वयं आखिर में' रहा है। और सभी स्थितियों में मैंने इस सिद्धांत का पालन करने की कोशिश की है और आगे भी करता रहूंगा। 
भारतीय लोकतंत्र का सार विविधता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का सम्मान है। अपनी स्थापना के समय से भाजपा ने उन लोगों 'दुश्मन' नहीं माना, जो राजनीतिक रूप से हमसे असहमत हैं, बल्कि उन्हें विरोधी के रूप में देखा। इसी तरह भारतीय राष्ट्रवाद की हमारी अवधारणा में हमने कभी उन लोगों को 'देश विरोधी' नहीं माना जो राजनीतिक रूप से हमसे असहमत हैं। पार्टी व्यक्तिगत और राजनीतिक स्तर पर प्रत्येक नागरिक की पसंद की स्वतंत्रता के लिए प्रतिबद्ध है।

लोकतंत्र और लोकतांत्रिक परंपराओं की रक्षा पार्टी के भीतर और राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के लिए गर्व की बात रही है। इसलिए भाजपा हमेशा मीडिया सहित हमारे सभी लोकतांत्रिक संस्थानों की स्वतंत्रता, अखंडता, निष्पक्षता और मजबूती की मांग करने में सबसे आगे रही है। चुनावी सुधार, राजनीतिक और चुनावी फंडिंग में पारदर्शिता पर विशेष ध्यान देने के साथ, जो भ्रष्टाचार-मुक्त राजनीति के लिए बहुत आवश्यक है, हमारी पार्टी के लिए एक और प्राथमिकता रही है।

संक्षेप में सत्य, राष्ट्र निष्ठा और लोकतंत्र तीनों ने मेरी पार्टी के संघर्ष से भरे विकास का मार्गदर्शन किया है। इन सभी मूल्यों का कुल योग सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सु-राज (सुशासन) है, जिससे मेरी पार्टी हमेशा संबंधित रही है। उपरोक्त नियमों को बनाए रखने के लिए आपातकालीन नियम के खिलाफ वीरतापूर्ण संघर्ष ठीक था।

यह मेरी ईमानदार इच्छा है कि हम सभी को सामूहिक रूप से भारत की लोकतांत्रिक शिक्षा को मजबूत करने का प्रयास करना चाहिए। सच है, चुनाव लोकतंत्र का त्योहार है। लेकिन ये भारतीय लोकतंत्र में सभी हितधारकों- राजनीतिक दलों, जन मीडिया, चुनाव प्रक्रिया का संचालन करने वाले अधिकारियों और सबसे ऊपर मतदाताओं द्वारा ईमानदार आत्मनिरीक्षण के लिए एक अवसर है।

सभी को मेरी शुभकामनाएं।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget