#SINGRAULI प्रतिबंधित लाल ईटों के निर्माण में धड़ल्ले से हो रहा चोरी के कोयले का उपयोग !


सिंगरौली। चोरी के कोयले पर ईटा भट्टा वालो का राज,बैढ़न में सरकारी आदेश को दरकिनार कर अवैध रूप से लाल ईंट तैयार की जा रही हैं। हरई पश्चिम टोला में ही ईंट कारोबारियों के दर्जनभर भट्ठे संचालित हैं।जबकि, जिला प्रशासन ने लाल ईंट के निर्माण में पूर्णत: प्रतिबंध लगा रखा है।

आपको बता दे कि कई ईंटा भट्टा वाले साहब केवल नियम की धज्जियां नहीं उड़ा रहें हैं बल्कि खुलेआम चोरी के कोयले का उपयोग भी कर रहें हैं। सूत्रो की माने तो चढ़ावे के दम पर जिले में खुलेआम अवैध कारोबा रहो रहा।


नोटिफिकेशन अंडर द इनवायरमेंट प्रोटेक्शन एक्ट के मुताबिक, औद्योगिक इकाइयों से 100 किलोमीटर की परिधि में लाल ईंटों का निर्माण पर पूरी प्रतिबंधित है। शासन का मानना है कि परियोजनाओं से निकलने वाले फ्लाईएश से ईंटें बनाई जाएं तो दोहरा लाभ होगा। इससे एक तो फ्लाईऐश डंप करने की समस्या से छुटकारा मिलेगा। वहीं, इनमें उपयोग होने वाली मिट्टी व कोयला भी बचेगा। 

सबसे हैरान करने वाली बात यह है की जिले में प्रदुषण पहले से ही एक बड़ी समस्या है ऐसे में अवैध रूप से संचालित इन ईंट-भट्ठों से आसपास की आबोहवा को और नुकसान पहुंचाने की खुली छुट क्यों है? या इस तरह के छुट के पीछे वाकई चढ़ावे का खेल है,चाहे जो कुछ भी हो ईंट-भट्ठों से उत्सर्जित होने वाला धुंआ आसपास रह रहे लोगों और अन्य जीव-जंतुओं के लिए जहर ही है,जो धीरे धीरे इनको निगल रही है।


रिपोटर-अर्जुन शाह

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget