विस्थापितो ने जिलाधिकारी को सौपा ज्ञापन, दी चेतावनी,"आवागन की सुविधा नही,तो वोट नहीं" !



के सी शर्मा
शक्तिनगर।सोनभद्र।जिलाधिकारी सोनभद्र 13 अप्रैल को दोपहर चिल्काडाड पुनर्वास बस्ती पहुचे हुए थे। उनके साथ दुद्धी के उपजिलाधिकारी और तहसीलदार भी थे।पुनर्वास बस्ती के निवासियों ने उनका गांव में स्वागत किया और पूनर्वास गाँव के दुर्दसाग्रस्त स्थिति से उन्हें अवगत कराते हुए ग्राम प्रधान रविन्द्र सिंह यादव और पूर्व ग्राम प्रधान नन्दलाल भारती,अध्यक्ष"नागरिक मंच" पन्ना लाल भारती,के नेतृत्व में एक ज्ञापन सौपा ।

"नागरिक मंच" द्वारा दिये गए ज्ञापन में पिछले चार दशकों से इस दुरूह और दुर्दशाग्रस्त स्थल पर एनटीपीसी सिंगरौली द्वारा पुनर्वासित किए जाने के बाद से अब तक की स्थिति को विस्तार से उल्लेख कर झेल रहे पीड़ा से अवगत कराया गया है। 

ज्ञापन में चेतावनी दिया गया है कि चुनाव से पहले यदि आवागन की सुविधा बहाल नही की गई तो हम ग्रामवासी लिये गए गांव के सामूहिक निर्णय के नुसार आगामी चुनाव का बहिष्कार करने को बाध्य होंगे।

ग्रामीणों की व्यथा -कथा सुनने के बाद स्वयं मौके की स्थिति आखों देख जिलाधिकारी ने प्रतिनिधि मंडल सहित उपस्थित ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही अपर जिलाधिकारी को मौके पर भेज स्थलीय निरीक्षण कराने के बाद समेस्या का स्थायीय हल निकालने का प्रयास किया जाएगा।

ज्ञात हो कि चार दशक पूर्व एनटीपीसी सिंगरौली द्वारा 6 गांवो के परिवारों की घर, जमीन आदि सभी अपनी परियोजना के निर्माण हेतु अधिग्रहण कर इन गांवों के मूल वाशिन्दों को विस्थापिति कर चिल्काडाड पुनर्वास स्थल पर लाकर बसाया गया था।जहाँ दशको से मूल भूत सुविधाएं का अभाव है। 

यह बस्ती एनटीपीसी प्रवन्धन की अदूरदर्शिता की भेंट चढ़ गई है और असुरक्षित स्थल पर बसा दी गयी है।जो एनसीएल खडिया परियोजना के खदान एरिया के डेंजर ज़ोन के अंतर्गत आता है।इतना ही नही बल्कि ओबी के पहाड़ नुमा ढेर के नीचे हाल रोड व सीएचपी के समीप वसायी गयी है।जिसका दर्द राष्ट्र निर्माण में अपने जीवका के सारे स्रोतो की आहुति देने वाले अपने घर से वेघर हुए ये विस्थापिति घुट- घुट कर तड़पते हुए झेल रहे है।

वर्षो से विलखते 25 हजार से अधिक की जनसंख्या वाले इन विस्थापितो की "आँसू" पोछने वाला कोई नही मिला,जबकि ये हर सम्बन्धित के चौखट तक पहुच अपनी दर्दभरी कहानी सुना चुके है।लेकिन सम्बेदनहीन और ग़ैरजिम्मेदारो ने सिर्फ कोरे आश्वासनों के अतिरिक्त इन्हें कुछ नही दिया और नही इन बेचारों की सुधी ही ली। इसके चलते दिन- प्रतिदिन इनकी स्थिति बद से बदतर  होती गयी।

उपरोक्त पीड़ा को कल पहली बार गाँव मे आये सोनभद्र के नवागत जिलाधिकारी अमित कुमार अग्रवाल के समक्ष सामूहिक रूप से गांव वालों ने बयां कर न्याय और जान माल के सुरक्षा की गुहार लगाई है।

जिला धिकारी से मिलने वाले प्रतनिधि मण्डल में प्रमुख तौर पर,ग्राम प्रधान रविन्द्र सिंह यादव, पूर्व प्रधान नन्दलाल भारती, "नागरिक मंच" के अध्यक्ष पन्ना लाल भारती, पूर्व प्रधान प्रमोद तिवारी, प्रधान प्रतिनिधि वृज विहारी यादव, समाजसेवी हीरालाल,क्षेत्र पंचायत सदस्य रंजीत कुशवाहा, पूर्व उप प्रधान नर्बदा कुशवाहा, सन्तोष गुप्ता आदि थे।

जिलाधिकारी सोनभद्र को दिये ज्ञापन की कापी "नागरिक मंच" ने रजिस्टर्ड डाक से भारत के निर्वाचन आयुक्त सहित महामहिम राष्ट्रपति महोदय,प्रधान मंत्री,रेल मंत्री,ऊर्जा मंत्री , राज्य निर्वाचन आयुक्त सहित शक्तिनगर के थानाध्यक्ष को प्रेषित किया है।…
Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget