संघ प्रचारक सुनील जोशी हत्याकांड की फाइल फिर खोलेगी कमलनाथ सरकार


भोपाल।।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रचारक सुनील जोशी की हत्या के मामले की फाइल मध्यप्रदेश सरकार फिर खोलने जा रही है। देवास जिले में लगभग 12 साल पहले हुई हत्या में भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर सहित आठ लोग आरोपी थे, जिन्हें वर्ष 2017 सबूतों के आभाव में बरी कर दिया था।

मध्य प्रदेश के जनसंपर्क एवं विधि मंत्री पी.सी. शर्मा ने सोमवार को शाजापुर के नालखेड़ा में बगलामुखी मंदिर के दर्शन करने के बाद संवाददाताओं से चर्चा के दौरान इस बात के संकेत दिए कि राज्य सरकार सुनील जोषी हत्याकांड की फाइल को फिर खोलने जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस मौके पर शर्मा ने संवाददाताओं से कहा, "मैं प्रज्ञा ठाकुर को साध्वी नहीं कहूंगा, क्योंकि उन्होंने महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त और शहीद हेमंत करकरे को देशद्रोही कहा है। इन बयानों से लगता है कि वे उस (सुनील जोषी) हत्याकांड में शामिल हो सकती हैं।"

सुनील जोशी की 29 दिसंबर 2007 को देवास में हत्या हुई थी। इस मामले में प्रज्ञा ठाकुर सहित आरोपी बनाए गए आठ लोगों को फरवरी 2017 को एनआईए कोर्ट ने सबूतों के आभाव में बरी कर दिया था।

सुनील जोशी की हत्या के पीछे मालेगांव ब्लास्ट का राज खुलने का डर था?
जानकारी के मुताबिक प्रज्ञा के भाषण से प्रभावित होकर तत्कालीन बीजेपी एमएलए सुनील जोशी उन्हें दिल बैठे। सुनील जोशी ने साध्वी प्रज्ञा शादी करना चाहते थे,लेकिन ने प्रज्ञा ने शादी से इनकार कर दिया था। 

मालेगांव ब्लास्ट में जब प्रज्ञा को गिरफ्तार किया गया था तो सुनील जोशी काफी गुस्से में आ गए थे और इसके विरोध में पूरे देश में प्रदर्शन का प्लान बना लिया था। हालांकि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने इसकी मंजूरी नहीं दी और ऐसा हो नहीं पाया। संघ के पूर्व प्रचारक सुनील जोशी की 29 दिसंबर 2007 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

सुनील जोशी की हत्या में प्रज्ञा को आरोपी बनाया गया था। प्रज्ञा ठाकुर को 23 अक्टूबर 2008 को गिरफ्तार किया गया था।कई लोगों का तो यहां तक मानना था कि प्रज्ञा ने सुनील जोशी की हत्या इसलिए कर दी थी क्योंकि उन्हें डर था कि कहीं वो मालेगांव ब्लास्ट का राज ना खोल दें। हालांकि देवास की एक अदालत ने फरवरी 2017 में साध्वी प्रज्ञा और सात अन्य आरोपियों सबूतों के आभाव में बरी कर दिया था।यदि मामला खुलेगा तो हर पहलू पर जांच होने की संभावना है।

Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget