लोकसभा चुनाव : क्या अब के तक सबसे बड़े विजेता CPIM के अनिल बसु का रिकार्ड इस चुनाव में टूट पाएगा

लोकसभा चुनाव 2019


अंकुर पटेल,विशेष संवाददाता

चुनाव की इस महासंग्राम समर मेला के आखिरी चरण में रविवार को 59 सीटों पर मतदान होगा। 6 राज्यों की 50 सीटों पर प्रचार शुक्रवार की शाम को ही थम गया था।  

यदि वाराणसी की बात की जाए तो वाराणसी लोकसभा सीट भाजपा परंपरागत रूप से जीतती आ रही है। पिछले 6 लोकसभा चुनाव में पांच में भाजपा ने यहां से जीत हासिल की है।

2014 में वाराणसी में कुल मतदाता की संख्या 1767486 थी,जिसमें से 1030685 मतदाता ने अपने मतों का प्रयोग कर अपने अपने प्रत्याशी को वोट किया। 2014 में भाजपा के प्रत्याशी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी को 371784 वोटो के अंतर से बढ़त बना कर हराया था।

2014 में भाजपा ने 16 सहयोगी दलों के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था,वही इस बार यह आंकड़ा 29 हो गया।

2019 में वाराणसी में कुल मतदाता की संख्या 1799353 है,जो 19 मई को अपने मतो का प्रयोग कर सकते है। इस बार नए मतदाताओं की संख्या में भी काफी इजाफा हुआ है। इस बार नए मतदाताओं की संख्या 31867 है।

लोकसभा चुनावों में अब तक सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड सीपीआई एम के अनिल बसु के नाम है।उन्होंने साल 2004 के लोकसभा चुनाव में पश्चिमी बंगाल की आराम बाग सीट से 592502 मतों से जीत हासिल की थी। 

यह सच है के प्रीतम मुंडे ने 6,96,321 वोटों जीत हासिल करने में कामयाब हुए थे लेकिन वह उपचुनाव था। 2014 में केंद्रीय मंत्री पद की शपथ लेने के नौ दिन बाद ही गोपीनाथ मुंडे की एक्सीडेंट में मौत हो गयी थी। इसके बाद बीड लोकसभा सीट पर उपचुनाव हुए। इस सीट पर गोपीनाथ मुंडे की बेटी प्रीतम मुंडे ने चुनाव लड़ा। उन्हें 9,22,416 वोट मिले. उन्होंने एनसीपी के सुरेश रामचंद्र को 6,96,321 वोटों से हराया। सुरेश रामचंद्र को 4,99,541 वोट मिले थे. तीसरे स्थान पर बीएसपी के दिगंबर रामराव राठौर रहे।

अब देखना यह है कि क्या कोई प्रत्यासी 2019 लोकसभा चुनाव में रिकार्ड बनाता है या अनिल बसु ही अभी तक नंबर एक पर काबिज रहेंगे।

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget