गर्मी के दुष्प्रभावों के प्रति कृति महिला मंडल ने किया जागरूक

सिंगरौली समाचार


सिंगरौली गर्मी से बचाव के लिए बांटे तौलिया-गमछा और ओआरएस एवं ग्लूकोन-डी।
ओम प्रकाश शाह
बैढन कार्यालय।।बढ़ती हुई गर्मी के दुष्प्रभावों से बचने में मदद देने के उद्देश्य से नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के कृति महिला मंडल ने शुक्रवार को केंद्रीय उत्खनन एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीईटीआई) परिसर में एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम में कृति महिला मंडल की अध्यक्षा श्रीमती संगीता सिन्हा बतौर मुख्य अतिथि और उपाध्यक्षा श्रीमती प्रतिमा पाण्डेय बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित थीं। कृति महिला मंडल की सदस्याओं ने सीईटीआई परिसर में काम करने वाले संविदा कर्मियों को गर्मी से बचने हेतु ओआरएस पाउडर, ग्लूकोन-डी, तौलिया एवं गमछे भी दिए। 

कार्यक्रम में प्रतिभागियों को गर्मी में रोज 10 से 12 गिलास पानी के साथ-साथ ओआरएस घोल, ग्लूकोन-डी, नींबू पानी, बेल का शरबत, नारियल पानी और छाछ पीने के सलाह दी गई। साथ ही, गर्मी के मौसम में होने वाली सब्जियों एवं फल जैसे- तरबूज, खीरा, खरबूजा और ककड़ी आदि के नियमित सेवन के फायदे भी बताए गए। 


गर्मी में तेज धूप एवं गर्म हवा से बचने के लिए प्रतिभगियों को रोज नहाने, साफ एवं हल्के रंग के कपड़े पहनने, बाहर के भोजन के सेवन से बचने, खाना बनाने तथा खाने से पहले एवं बाद में साबुन से हाथ धोने और किसी अन्य व्यक्ति की प्रयोग की गई तौलिया एवं रुमाल प्रयोग नहीं करने की सलाह भी दी गई।

एनसीएल के केंद्रीय चिकित्सालय, सिंगरौली की डॉक्टर नेहा स्मृति ने प्रतिभागियों को गर्मी के मौसम में होने वाले त्वचा रोगों जैसे- घमौरी, खुजली और खराब खाना खाने से होने वाले रोगों जैसे- टाइफ़ाइड, हेपेटाइटस-ए, हेपेटाइटस-ई, हैजा, डायरिया, उल्टी होना जैसे रोगों के लक्षण और उनसे बचाव के बारे में तफसील से बताया। साथ ही, लू लगने और शरीर में पानी की कमी से बचने के लिए थोड़े-थोड़े समय बाद निरंतर पानी पीते रहने की सलाह भी दी। 

कार्यक्रम में सीईटीआई परिसर में काम करने वाले 56 संविदा कर्मियों ने भाग लेकर गर्मी से बचने में सहायक जानकारी का लाभ उठाया।

Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget