PM मोदी प्रचंड जीत को हिन्दुस्तान, लोकतंत्र और जनता की विजय बताया

ये पहला चुनाव था जिसमें महंगाई और भ्रष्टाचार कोई मुद्दा नहीं था।


न्यूज डेस्क।। लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत से विजय प्राप्त करने पर देशभर के भाजपा कार्यकर्ता उत्साह में है। भाजपा मुख्यालय से प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा लोकसभा चुनाव में भाजपा नीत राजग की विजय को ‘हिन्दुस्तान, लोकतंत्र और जनता की विजय' बताया और कहा कि भाजपा देश के संविधान एवं संघवाद के प्रति समर्पित है तथा केंद्र एवं राज्य देश की विकास यात्रा में कंधे से कंधा मिलाकर काम करेंगे।

पढ़िए,संबोधन में कही प्रमुख बातें 
  • 2019 में देश की जनता ने इस फकीर की झोली को भर दिया है।मैं सर झुकाकर देश की 130 करोड़ जनता का अभिनंदन करता हूं।
  • मतदान का जो आंकड़ा है वो लोकतांत्रिक विश्व की सबसे बड़ी घटना है।लोकतंत्र की ख़ातिर जिन लोगों ने बलिदान दिया है, उनके परिवार के प्रति मैं संवेदना प्रकट करता हूं।मैं चुनाव आयोग को, सुरक्षाबलों को, लोकतंत्र की व्यवस्था को संभालने वाले हर किसी को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।
  • महाभारत युद्ध की समाप्ति के बाद कृष्ण से पूछा गया कि आप किसके पक्ष में थे।उनका जवाब 21वीं सदी के 2019 के चुनाव में देश के 130 करोड़ जनता ने भी दिया है।कृष्ण ने कहा था कि वो किसी के पक्ष में नहीं, वो सिर्फ हस्तिनापुर के पक्ष में थे, आज 130 करोड़ नागरिक भारत के पक्ष में खड़े थे।
  • ये चुनाव देश की जनता लड़ रही थी,जिनके आंख कान-बंद थे उनके लिए मेरी बात समझना मुश्किल था। लेकिन आज मेरी भावना को जनता ने प्रकट किया है।अगर कोई विजय हुआ है तो हिंदुस्तान, लोकतंत्र और जनता जनार्दन विजयी हुई है।हम इस विजय को जनता जनार्दन को समर्पित करते हैं।
  • चार राज्यों में भी चुनाव थे, वहां भी जो चुनकर आए हैं उनको भी बधाई।भारतीय जनता पार्टी भारत के संविधान को समर्पित है, ऐसे में जीतने वाले लोगों को मैं विश्वास दिलाता हूं कि केंद्र सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलेगी।
  • दो से दोबारा आने तक इस यात्रा में कई उतार-चढ़ाव आए, लेकिन फिर भी निराश नहीं हुए।ये 21वीं सदी है, ये नया भारत है।ये मोदी की विजय नहीं बल्कि ईमानदारी की आशा लगाए लोगों की विजय है।
  • पिछले 30 सालों में सेक्यूलरिज़्म नाम का एक बैज था जिसे लगा लो तो सारे पाप धुल जाते थे,आपने देखा होगा कि 2014 के बाद ये बदला और 2019 में किसी ने इसका इस्तेमाल नहीं किया।
  • ये पहला चुनाव था जिसमें महंगाई और भ्रष्टाचार कोई मुद्दा नहीं था। इन्हीं वजहों से राजनीतिक पंडितों को समझ नहीं आ रहा था कि इसे किस तराज़ू से तोला जाए।भारत के उज्जवल भविष्य, एकता और अखंडता के लिए भारत की जनता ने एक नया नैरेटिव देश के सामने रख दिया है।देश के सबसे ग़रीब ने सारे समाजशास्त्रियों को सोचने पर मजबूर कर दिया।देश में दो ही जातियां बचेंगी, पहली जाति है ग़रीबी और दूसरी जाति है देश को ग़रीबी से मुक्त कराने में अपना योगदान देने वालों की।21वीं सदी में इन्हीं दो जातियों की मज़बूत करना है, इस सपने को लेकर हमें चलना है।2019 से 2024 तक समृद्ध भारत बनाना है।
  • सरकार भले ही बहुमत से बनती हो, देश सर्वमत से चलता है। चुनाव में चाहे जो हुआ, मेरी लिए वो बात बीत गई।हमें सबको साथ लेकर चलना है।मैं ग़लत नीयत से कुछ नहीं करूंगा,मैं मेरे लिए कुछ नहीं करूंगा और मेरे समय का पल-पल,मेरे शरीर का कण-कण सिर्फ देशवासियों के लिए है।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget