सिंगरौली जिले में रेत के अंधाधुंध दोहन पर प्रशासनिक चुप्पी के मायने क्या,बेबसी या संरक्षण !

सिंगरौली समाचार,


ओम प्रकाश शाह 
सिंगरौली। जिले में रेत माफियामाफियों के हौसले इतने बुलंद है के अवैध खनन का कारोबार रात के अँधेरे में चोरी छुप्पे नहीं बल्कि दिन के उजाले में खुलेआम करते हैं,पोकलेन मशीन लगाकर रेत निकालने का काम हो या शहर के बीचोंबीच रेत उराते परिवहन का काम हो।एक कहावत है सावन के अंधे को सबकुछ हरा दिखता है अब आंख वाले खनिज अधिकारी को क्या कौन सा सब्जबाग किसने दिखा दिया है की जिले में इतना सबकुछ खुलेआम हो रहा है लेकिन उनको दिखाई ही नहीं देता।

देखिए कैसे खुलेआम होता है अवैध रेत उत्खनन 


कुछ दिनों पहले एक ऐसे ही अवैध तरीके से रेत खनन व राजस्व चोरी का मामला प्रकाश में आया था। जिसमें रहवासियों ने बालाजी कंस्ट्रक्शन द्वारा करौटी के ग्राम ओरगई में रेड नदी से 10 हेक्टेयर में अवैध उत्खनन कर शासन को मिलने वाले राजस्व पर डाकां डाला जा रहा है ऐसा आरोप लगाया गया था।सूत्रों की माने तो मामला जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय तक भी पहुंचा लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई।

अवैध खनन के लिए धरौली,खटाई,बिछी,बरवाडीह,रमिडहा,हरमा,ठटरा,माचीकला,खैडार,देउरा सहित नगर निगम वार्ड क्र-45 अमलोरी व बैढ़न ब्लाक के देवरी पंचाय के बीच से निकलने वाली काचन नदी बालू के अवैध उत्खनन व निकासी के लिये सबसे मुफीद जगह है।ममािफया से जुड़े लोग खुलेआम रेत खनन कर रहें हैं।क्या रेत का जिले भर में हो रहा अवैध खनन बगैर जिला प्रशासन के मिली भगत के इतने धरल्ले से हो सकता है?

देखिए कैसे रेत उड़ाते होता है अवैध उत्खनन कर परिवहन 


हद तो यह है की,जिले में रेत का अवैध उत्खनन कर शहर के बीचों बीच मुख्य मार्ग से ओवरलोड हाईवा रेत लेकर धूल उड़ाते चल रहा है,जो प्रशासन चोरी की नियत से छिपे चोर तक को पकड़ लेती है,आपातकालीन स्थिति में जा रहे आम जनता के वाहन को भी नहीं छोड़ती उस प्रशासन को खुलेआम कानून का मखौल उड़ाते इन रेत खनन माफ़ियाओं की अवैध कार्य क्यों नहीं दिखता यह समझ के पड़े है।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget