एंटी ड्रग्स डे स्पेशल : नशा छोड़ने के लिए,सोशल मिडिया को छोड़ सोशल बनिए


संयुक्त राष्ट्र के सहयोग से एंटी ड्रग्स डे की स्थापना साल 1987 में हुई थी। हालांकि इतने प्रयासों बावजूद देश दुनिया में अभी भी लोग नशे की लत के शिकार हो रहे हैं। आपके आस-पास भी ऐसे लोग हैं तो उन्हें इस लत से बाहर निकालने में आप उनकी मदद कर सकते हैं।

नशा छोड़ने के लिए सबसे महत्मवपूर्नण है मन पर काबू करना।कहते हैं अगर इंसान ठान ले तो कोई भी काम मुश्किल नही। आइए कुछ टिप्स जानते हैं  जिनका सहारा लेकर आप नशे के कैद से आजाद हो सकते हैं।

सोशल मिडिया को छोड़ सोशल बनिए 

सोशल मिडिया पर परोसे जाने वाले सामग्री से आपकी जिंदगी की मिठास कम कड़वाहट ज्यदा आता है,और सामान्यतः लोग उग्र हो जाते हैं। घुटन बढ़ने से असवादपन आना स्वाभाविक है,ऐसे में नशे के शिकार ज्यादा नशा करने लगते हैं,और जो इससे बचे होते हैं उनका भी नशे की ओर आकर्षण बढ़ जाता है। नशे से बचने के लिए सोशल मिडिया को छोड़ सोशल बनिए।    

सुबह के वक्त मेडिटेशन और वर्कआउट करना शुरू करें और अपने मन पर काबू करना सीखें। मन पर काबू कर आभासी दुनिया के बजाय हकीकी दुनियां में आसपास के लोगों से मेलजोल बढ़ाएं ताकि आपके दिमाग में नशे का ख्याल ही न आएं। 
काउंसिलर की मदद लें

नशा से मुक्त होने के लिए किसी डॉक्टर या काउंसिलर की मदद लेना भी सही होगा। इनके गाइडेंस में आपको नशे से छुटकारा पाने में काफी मदद मिलेगी।

दूसरे विकल्प खोजें

नशे के विकल्प ढूंढकर भी आप इसकी गिरफ्त से बाहर निकल सकते हैं। गुटखा या तंबाकू की जगह आप इलायची या सौंफ की आदत डाल सकते हैं। वहीं सिगरेट का सेवन करने वाले हर्बल सिगरेट का इस्तेमाल कर यह बुरी लत छोड़ सकते हैं।

होम्योपेथी की दवाएं

होम्योपेथी में नशे की लत छुड़वाने वाली कई खास दवाइयां हैं। इन दवाइयों का कोई साइइफेक्ट नहीं होता, लेकिन इनका इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से कीजिए।

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget