ब्लैकमेलर झोलाछाप डॉक्टर को कोतवाली पुलिस ने पहुंचाया सलाखों के पीछे


ओम प्रकाश शाह

सिंगरौली- कोतवाली पुलिस की कार्यवाही,अश्लील फोटो बनाकर महिलाओं को ब्लैकमेल करने वाला झोलाछाप डॉक्टर को पकड़ा।

फेसबुक,वाट्सअप व अन्य तरह से लड़कियों व महिलाओं की फ़ोटो को प्राप्त कर एडल्ट एडिटिंग कर यौन ब्लैकमेलिंग करने वाले शातिर बहसी सुधर जाए वरना साइबर अपराध को पनपने से पहले उसे जड़ से समाप्त करने के लिए सिंगरौली पुलिस पूरी तरह से तैयार है। जिले के कोतवाली क्षेत्रान्तर्गत ग्राम चरगोड़ा से वाट्सअप से ब्लैकमेलिंग प्राप्त शिकायत पर कार्यवाही करते हुए टी आई मनीष त्रिपाठी ने दो दिवस के अंदर ब्लैकमेलर झोलाछाप डॉक्टर को ना केवल सलाखों के पीछे पहुंचा दिया बल्कि एक नव दंपति के हंसते खेलते परिवार की इज्जत को तार तार होने से बचा लिया। 

कोतवाली प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने पत्रकारों को बताया कि 25 जून को उनके पास नवदम्पति विनोद कुमार वैश्य अपनी नव विवाहिता के साथ शिकायत दर्ज कराया कि पिछले 4 जून से एक अज्ञात नंबर से लगातार वाट्सअप पर अश्लील फोटो व वीडियो मैसेज आ रहा है जिसमे उसकी पत्नी से सम्बंधित एडिटिंग फ़ोटो व वीडियो है। फ़ोटो वीडियो के एवज में लाखों रुपये की डिमांड करता है और नही देने पर फ़ोटो को इंटरनेट पर वायरल करने की धमकी देता है।तत्पश्चात मामला दर्ज कर विवेचना शुरू की गई।

फर्जी नाम के जिओ मोबाइल से कर रहा था ब्लैकमेल

कोतवाल प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि विवेचना उपरांत आरोपी डॉक्टर सुरेश वैश्य पुत्र बलिराम वैश्य निवासी चतरी थाना मोरवा को फर्जी नाम वाले जिओ कंपनी के सिमयुक्त मोबाइल के साथ गिरफ्तार किया गया। बताया कि आरोपी बीएससी व बीएड हायर एजुकेटेड है और कुछ दिन तक जननी एक्सप्रेस में काम भी किया है। बाद में आरोपी कसर गेट के पास ग्राम गांगी म एक ें फर्जी क्लीनिक संचालित कर लिया और अपनी पशुकृत वासना को मिटाने जान - पहचान की लड़कियों व महिलाओं की अश्लील एडिटिंग कर ब्लैकमेल करने के खुराफात में लग गया।

दर्जनों महिलाओं को कर चुका है ब्लैकमेल

कोतवाल प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि पूछताछ में पहले तो आरोपी ना नुकुर करता रहा पर कोतवाली पुलिस ने जब उसके मोबाइल के डाटा में भरे पड़े अश्लील फोटो वीडियो को उसके सामने परोस दिया तो डॉक्टर के सामने अपना गुनाह कबूल करने के अलावा कोई चारा नही बचा। आरोपी डॉक्टर ने तकरीबन दर्जनभर महिलाओ को ब्लैकमेल कर यौन शोषण का अपराध स्वीकार किया है। पारिवारिक व सामाजिक दृष्टिकोण से सभी की पहचान गोपनीय रखी गयी है। आरोपी के खिलाफ धारा 387,507 भादवि व 67 ए आई टी एक्ट की कार्यवाही की गई है।

कोतवाली प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने जिले की लड़कियों व महिलाओं से अपनी ओरिजनल फ़ोटो को सोच समझ कर वाट्सअप व फेसबुक पर अपलोड करने की अपील की है। साथ ही अपील की है कि यदि वाट्सअप फेसबुक के माध्यम से यदि कोई भी अश्लील बात या व्यवहार करता है त्वरित पुलिस को बताए, पहचान गोपनीय रहेगी पर आरोपी जेल के अंदर। इस सम्पूर्ण कार्यवाही में टी आई मनीष त्रिपाठी के नेतृत्व में एस आई उदय करिहार, संतोष सिंह, अरविंद चतुर्वेदी ,संजय परिहार, प्रवीण सिंग व सायबर सेल प्रभारी दीपेश पटेल की अहम भूमिका रही।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget