अगर उनके परिवार को न्याय नहीं मिल पा रहा तो राज्य में किसे न्याय मिलेगा।- रामबाई


भोपाल।। विधानसभा के मानसून सत्र में पांचवे दिन शुक्रवार को बजट पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बयान पर सत्ता पक्ष के विधायकों ने आपत्ति जताते हुए जोरदार हंगामा किया।

गोपाल भार्गव ने कहा कि यह विचित्र सरकार है सभी मंत्रियों को कैबिनेट मंत्री बना दिया। विधायकों को खिलाने पिलाने का काम किया जा रहा है। इस पर सत्तापक्ष के विधायकों ने आपत्ति जताई और गोपाल भार्गव के बयान को विधायकों का अपमान बताया। गोपाल भार्गव ने कहा कि ये सरकार खोखली है। विधायकों को खिलाने पिलाने की जिम्मेदारी मंत्रियों को दी गई है।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा "नेता प्रतिपक्ष के भाषण में अभी तक मुख्य रूप से दो बातें सामने आई हैं। एक तो ये कि सभी मंत्रियों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया। कमलनाथ ने कहा कि उन्हें ये तो नहीं पता कि देश में कहीं ऐसा हुआ है,अथवा नहीं हुआ,लेकिन इतना तय है कि यदि उनके विधायक कैबिनेट मंत्री बनने के लायक हैं, तो क्या उन्हें मंत्री भार्गव की सलाह पर बनाते।"
कमलनाथ ने फिर कहा, "इसके अलावा गोपाल भार्गव ने विधायकों के खिलाने और पिलाने की व्यवस्था करने की बात कही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि निश्चित तौर पर उन्होंने जिम्मेदारी दी है, लेकिन जिम्मेदारी विधायकों को सदन में भाग लेने की दी है। उन्होंने हल्के से तल्ख अंदाज में कहा कि खिलाने,पिलाने और सुलाने की संस्कृति आप (भाजपा) लोगों की है और इसलिए आप लोग इस तरह का सोचते हैं।"

इस पर गोपाल भार्गव ने कहा, "उनकी बात को गलत अर्थ में ले लिया गया है। वे इसके स्थान पर 'केयरटेकर' शब्द को इस्तेमाल करना चाहेंगे।" दरअसल इसके पहले गोपाल भार्गव ने चर्चा में शामिल होते हुए कहा था कि एक-एक मंत्री को तीन-तीन विधायकों को खिलाने,पिलाने और सुलाने का जिम्मा दिया गया है। इस पर कांग्रेस सदस्यों ने तत्काल आपत्ति जतायी थी और इसी बात को लेकर कुछ देर के लिए नोंकझोंक भी हुई।
सरकार को समर्थन दे रही बसपा विधायक रामबाई ने शुक्रवार को विधानसभा में अपने परिवार को एक मामले में फंसाए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर उनके परिवार को न्याय नहीं मिल पा रहा तो राज्य में किसे न्याय मिलेगा। 
रामबाई ने शून्यकाल के दौरान कहा कि दमोह जिले में एक परिवार के साथ हुई एक घटना में उनके परिवार को फंसा दिया गया है। उन्होंने कहा कि वे सरकार में शामिल हैं, पर उनके परिवार को न्याय नहीं मिल रहा और उनके परिवार के 28 लोगों को जेल में बंद कर दिया गया। इसी दौरान उन्होंने आरोप लगाया कि अगर उनके परिवार को न्याय नहीं मिला तो राज्य में और किसे न्याय मिलेगा।

पूर्व मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ विधायक नरोत्तम मिश्रा ने उनका समर्थन करते हुए कहा कि महिला विधायक को न्याय दिलाया जाना चाहिए। उन्होंने अध्यक्ष एनपी प्रजापति से इस पर व्यवस्था देने की मांग की
Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget