उत्तर प्रदेश के नए भाजपा अध्यक्ष कांग्रेस से कैसे हुए स्वतंत्र !


भाजपा ने उत्तर प्रदेश के लिए अपने अध्यक्ष को बदला है,पार्टी ने स्वतंत्र देव सिंह को उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी है, स्वतंत्र देव सिंह को तुरंत प्रभाव से पार्टी की राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया है। मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी की तरफ से यह घोषणा की गई है। स्वतंत्र देव सिंह से पहले महेंद्र नाथ पांडे उत्तर प्रदेश में भाजपा के अध्यक्ष थे। महेंद्र नाथ पांडे अब केंद्र में मंत्री बन चुके हैं और भाजपा की एक व्यक्ति एक पद की नीति के तहत उनकी जगह स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। हालांकि स्वतंत्र देव सिंह भी उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं। 



कांग्रेस से कैसे हुए स्वतंत्र!

स्वतंत्र देव सिंह का वास्तविक नाम कांग्रेस सिंह था। संघ को बहुत कन्फ्यूजन होता था। संघ में उनका नाम स्वतंत्र देव सिंह रख दिया गया। झांसी में अखिल भारतीय विद्यार्थी में शामिल हुए। उनकी मेहनत और लगन को देखते हुए उन्हें कानपुर भेज दिया गया। कानपुर में वह हनुमान मिश्रा के नेतृत्व में भारतीय जनता युवा मोर्चा के साथ खड़े हो गए। 2000 में उन्हें युवा मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया गया। इसी दौरान उनके नेतृत्व में आगरा में हुए पार्टी के राष्ट्रीय सम्मलेन उनका बड़े नेताओं से परिचय हुआ। इसका इनाम ये मिला कि उन्हें युवा मोर्चा से मुख्यधारा में लाते हुए पार्टी ने उत्तरप्रदेश भाजपा का महामंत्री बना दिया। उन्हें उरई में सहकारी समिति का अध्यक्ष भी बनाया गया।



पत्रकारिता छोड़ थामा संघ का दामन 

स्वतंत्र देव सिंह मूल रूप से मिर्जापुर जिले के रहने वाले हैं। साल 1984 में वह अपने भाई श्रीपत सिंह के साथ उरई (जालौन) आए थे। श्रीपत सिंह पुलिस विभाग में यहां तबादला होने के कारण आए थे। 1985 में ग्रेजुएशन में दाखिले के बाद 1986 में सिंह ने उरई के डीएवी डिग्री कॉलेज में छात्र संघ चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए। इसके बाद सिंह ने उरई में ही 1989 में एक अखबार में बतौर जिला संवाददाता काम करना शुरू कर दिया। 1992 में उन्होंने पत्रकारिता छोड़ दी। वे संघ कार्यकर्ता के रूप में उरई से झांसी आ गए।

Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget