उर्जांचल :तो ऐसे बिजली कर्मी पलीता लगा रहें हैं योगी जी के सुशासन के सपनों का।


के.सी.शर्मा

शक्तिनगर(सोनभद्र)।।गर्मी व उमस बढ़ते ही उर्जान्चल के गैर परियोजना क्षेत्र बाजार व गांव की बिजली सप्लाई व्यवस्था पटरी से उतर चुकी है।लगातार एक दो महीने से24 घंटे मे महज 10-12 घंटे ही बमुश्किल बिजली मिलती है। उसमें भी बिजली का बार -बार आना जाना लगा रहता है। यह क्रम रात दिन बराबर चलता रहता है।

ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओ का कहना है की गर्मी और उमस बढ़ते ही बिजली कटौती की समस्या होने लगी थी जो अभी तक महीनों गुजर जाने के बाद भी उसी तरह बरकरार है। अब तो वह अंतहीन सिल सिला का रूप धारण कर ली है ।

मनमानी बिजली कटौती से लोग परेशान है एक तरफ बारिश न होने से चारो तरफ गर्मी उमस, ऊपर से मेंटिनेंस के नाम पर बिजली कटौती ने आम जानता का जीना दूभर कर दिया है।जब से खडिया 33/11 सब स्टेशन में नए जे ई तथा अन्य कर्मचारी यहा आये है तब से स्थिति पहले से भी ज्यादा गड़बड़ होती जा रही है।

 जे.ई.साहब  मस्त है और जनता त्रस्त   


खडिया बाजार से लेकर चिल्काडाड बाजार, पी डब्ल्यू डी मोड़ के पीछे की बस्ती,शक्तिनगर थाने के सामने की हजारों की संख्या में बसी बस्ती,बस स्टेशन के आस पास बसी बस्ती,अंबेडकर नगर,कोटा,तारापुर के पास की बस्ती, कोहरौल, बरवानी, चन्दूवार, आदि में हजारो अवैध कनेक्शन देकर विजली विभाग वाले लाखों रुपये प्रति माह की काली कमाई कर रहे है। 

ये बिजली कर्मी व अधिकारी काली कमाई करने में एक तरफ मस्त है, उन्हें इसकी कोई परवाह नही है कि सरकार की छवि जनता में गिर रही,और जनता पस्त और त्रस्त है।

अवैध कनेक्शन से कई तरह के कारखाने,वेल्डिंग मशीनें आदि अनेकों तरह की कमर्शियल कार्य मे चोरी की विजली का बिजली विभाग के इन कर्मियों के मिली भगत से खुला खेल हो रहा है।जिससे राज्य सरकार को भी भारी आर्थिक छति हो रही है।खडिया फिडर की लाइट मे चोरी और कटौती बहुत ज्यादा है।

तो ऐसे बिजली कर्मी पलीता लगा रहें हैं योगी जी के सुशासन के सपनों का।

आम जनता की माने तो वे कहते है J.E. से फ़ोन करने पे वो बोलते हैँ की मै घर मे हूं खाना खा के सो रहा हूं, तो जनाब ड्यूटी के टाइम पे J.E. घर मे सो कर, पलीता लगा रहें हैं योगी जी के सुशासन के सपनों का।

आम जनता कितनी परेशानी का सामना कर रही है हॉस्पिटल स्कूल मे इतनी भयानक उमस के बाद भी मरीज छोटे बच्चे कैसे रहते होंगे ।

J.E. और अन्य बिजली कर्मी जब भी उनसे कटौती का कारण पूछिये तो एक रटा रटाया बात बोलते है की तार में फाल्ट हुआ है 10 मिनट बाद लाइट चालू हो जाएगी,10 मिनट का इंतजार करते करते पूरा दिन निकल जाता है कभी पूरी रात निकल जाती है । बिजली का कही पता नहीं चलता और 10 मिनट क्या घंटो भी इंतजार करते करते थक जाते है फिर भी यहा के J.E. का फ़ोन नहीं उठेगा।मोबाइल स्विच ऑफ करके वे घर मे सोते और आराम फरमाते रहते है।

बिजली  विभाग के उच्चाधिकारी व स्थानीय प्रशासन आखिर मौन क्यों है? और ऐसे कर्मचारीयो को ड्यूटी पे क्यों रखा गया है जो ड्यूटी के टाइम पे घर मे खाना खा के सोते है और वे जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारी नही समझते। 

साहेब के कारनामों को है कोई देखने वाला 

सरकारी अधिकारी और कर्मचारी पब्लिल सर्वेन्ट होते है,मतलब जनता के सेवक,लेकिन बिजली विभाग के लोग तो अपने को ही मलिक समझ बैठे है और जनता को अपनी प्रजा। इस उल्टे आचरणसे क्षेत्र की जनता में सन्तोष और आक्रोश व्याप्त है।स्थानीय नागरिकों ने विजली विभाग के उच्चाधिकारियों का इस ओर ध्यान आकृष्ट कराते हुए इनके खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

यदि अधिकारियों ने समय रहते कार्यवाही नही की तो जनता सड़क पर उतर जनांदोलन कारने का मूड कब बना लेगी की संभावना से इनकार नही किया जा सकता है।

Labels:
Reactions:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget