उर्जा मंत्री का निर्देश बेअसर,बिजली विभाग की घोर लापरवाही से विद्युत कर्मी झुलसा !


अजीत नारायण सिंह 
वाराणसी की विद्युत व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक एवं जिलाधिकारी से टेलीफोन पर वार्ता की।

ऊर्जा मंत्री ने जिलाधिकारी वाराणसी को अधिकारियों की कमेटी बनाकर एक माह के अंदर एक ही किस्म का क्षेत्र में दोबारा हुए विद्युत फाल्ट की जांच कर रिपोर्ट तैयार दोषी विद्युत विभाग के अभियंताओं पर कड़ी कार्रवाई किए जाने का निर्देश दिया।
एक ही क्षेत्र में बार-बार हो रहे विद्युत फाल्ट पर दोषी अधिकारियों पर होगी कार्रवाई।                               श्रीकांत शर्मा, ऊर्जा मंत्री
निर्बाध विद्युत आपूर्ति को लेकर अब बिजली विभाग का विधुत फाल्ट वाला नही चलेगा फार्मूला।
                     डॉ नीलकंठ तिवारी राज्य सूचना मंत्री 
उर्जा मंत्री के निर्देश के बावजूद बिजली विभाग की घोर लापरवाही से  विद्युत कर्मी झुलसा! 



विद्युत कर्मी झुलसा मिर्जामुराद स्थानीय क्षेत्र के गौर गांव में स्थित बरमपर बिजली के खंभे पर विद्युत संविदा कर्मी चढ़कर बिजली बना रहा था की करंट लगने से बुरी तरह झुलस गया।

जानकारी के अनुसार मंगलवार की सुबह लगभग 11:00 बजे लालपुर बिद्युत उपकेन्द्र से निकलने वाली लाईन पर मिर्जामुराद स्थानीय क्षेत्र के गौर गांव में स्थित बरमपर बिजली के खंभे पर विद्युत संविदा कर्मी राजेश कुमार पटेल निवासी ग्राम नारायणपुर जनपद मिर्जापुर चढ़कर बिजली बना रहा था। बताते हैं कि सटडाउन लेने के बाद भी कार्य के दौरान विधुत प्रवाह बहाल होने के कारण करंट लगने पर विद्युत कर्मी राजेश पटेल बुरी तरह झुलस कर तार पर लटक गया किसी तरह ग्रामीणों की सहायता से घायल विद्युत संविदा कर्मी को उतारा गया जिसे आनन-फानन में वाराणसी मे इलाज हेतु भेजा गया।

अधिशासी अभियंता ग्रामीण ने बताया कि घायल विद्युत संविदा कर्मी की अब हालात खतरे से बाहर हैं। साथ ही विभागीय जांच कमेटी बना कर घटना की जाँच की जाएगी।

दूसरी ओर विद्युत संविदा कर्मी घटक दल के नेता वीरेन्द्र सिंह से बात करने पर बताया कि सारी गलती विद्युत संविदा कर्मी राजेश कुमार पटेल की है कि बिना किसी सुरक्षा उपकरणों के और छोटी सीड़ी से पोल पर क्यों चढा।

जबकी फोटो से साफ दिखता है कि विजली विभाग के अधिकारी एवं ठेकेदार की घोर लापरवाही के चलते यह घटना घटित हुई हैं क्योंकि घटना मे उसके पास कोई सुरक्षा उपकरण नहीं है जैसे हैण्ड गलप्स, सेफ्टी बेल्ट यहां तक की जो सिड़ी हैं वह भी छोटी हैं।

अब देखना दिलचश्प होगा की,बिजली विभाग के अधिकारियों एवं ठेकेदार के खिलाफकोई कार्यवाही होता है या उंचे रसूख और थैली के खेल में सब कुछ रफादफा कर दिया जाता है।

Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget