मध्यप्रदेश : बच्चों की हत्या के मामले के आरोपी ने कहा, भगवान के आदेश पर राक्षसों का किया सर्वनाश


भले ही 21वीं सदी में पहुंचने का दावा किया जा रहा हो लेकिन आज भी अपने कुंठा को पोषित करने के लिए लोग अजब गजब तर्क दे कर हत्या जैसे जघन्य अपराध को भी  जायज़ ठहराते हुए भगवान के आदेश पर किया कार्य बताने की बेहयाई करते दिख ही जाते हैं। जी हां, मध्यप्रदेश के शिवपुरी के सिरसौद थाना क्षेत्र में भाव खेड़ी ग्राम में बुधवार को दो दलित बच्चों की हत्या करने वाले आरोपी ने पुलिस के पूछताछ में कहा की, ‘मुझे भगवान का आदेश हुआ है कि, इस धरती पर राक्षसों का सर्वनाश कर दो’ इसलिए मैं राक्षसों का सर्वनाश करने निकला हूं।"

मामला क्या है यह भी जान लीजिए

सिरसौद थानांतर्गत ग्राम भावखेड़ी में बुधवार सुबह दबंग यादव भाइयों ने खुले में शौच करने वाले वाल्मीकि समाज के बुआ-भतीजे को लाठियों से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया था। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। ग्राम भावखेड़ी निवासी मनोज वाल्मीकि का दस वर्षीय बेटा अविनाश और 13 साल की बहन रोशनी पुत्री कल्ला वाल्मीकि बुधवार सुबह 6:30 बजे शौच करने के लिए घर के बाहर सडक़ पर गए थे। जब दोनों शौच कर रहे थे तभी पड़ोस में रहने वालेे रामेश्वर व हाकिम यादव पुत्रगण श्रीलाल यादव वहां आ आए। उन्होंने बच्चों से कहा, तुम लोग सडक़ पर शौच कर सडक़ गंदी क्यों कर रहे हो ? इतना कहकर दोनों ने अविनाश व रोशनी को लाठियों से पीटना शुरू कर दिए। पिटाई से दोनों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी।

भगवान के आदेश पर राक्षसों का किया सर्वनाश 

जब पुलिस ने आरोपी रामेश्वर व हाकिम को गिरफ्तार कर उनसे बच्चों की हत्या करने का कारण पूछा तो हाकिम ने कहा कि ‘मुझे भगवान का आदेश हुआ है कि, इस धरती पर राक्षसों का सर्वनाश कर दो’ इसलिए मैं राक्षसों का सर्वनाश करने निकला हूं।"


दलित बच्चों की हत्या के मामले में 4 लाख 25 हजार रूपये की आर्थिक मदद



शिवपुरी जिले के सिरसौद थाना क्षेत्र के भावखेड़ी ग्राम में बुधवार को हुई दो दलित बच्चों की हत्या के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पीड़ित परिवारों में से प्रत्येक को शासन की ओर से सवा चार लाख रूपये सहायता राशि के चैक प्रदान किये गए। 

अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम के तहत चार्जशीट होने पर इतनी ही राशि पीड़ित परिवारों को और दी जायेगी। इसके पहले पीड़ित परिवारों को रेडक्रास की ओर से 25-25 हजार रूपये आर्थिक सहायता तथा 5-5 हजार रूपये अंत्येष्टि सहायता राशि दी गई। 

कलेक्टर श्रीमति अनुग्रह पी. ने मौके पर पहुँचकर पीड़ित परिवारों के सदस्यों को ढाढ़स बँधाया। उन्होंने परिवार के सदस्यों से दु:ख की इस घड़ी में धैर्य रखने का आग्रह किया।

प्रतिक्रियाएँ:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget