Chandrayaan 2 : मिशन चंद्रयान पूरी तरह से फेल हो गया यह कहना अर्धसत्य है!


चंद्रयान-2 के तहत विक्रम माड्यूल को चंद्रमा की सहत पर तय योजना के मुताबिक उतारने की इसरो की योजना पूरी नहीं हो सकी। अंतिम क्षणों में लैंडर का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया।
इसके बाद चर्चा हो रही है कि चंद्रयान 2 मिशन फेल हो गया। यह पूरी तरह सत्य नहीं है। विशेषज्ञों का कहना है कि अभी इस मिशन को असफल नहीं कहा जा सकता। हो सकता है कि लैंडर से पुन: संपर्क स्थापित हो जाए। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर लैंडर विफल भी हो गया होगा तब भी चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर एकदम सामान्य है। 

ऑर्बिटर चांद की ऑर्बिट पर लगातार परिक्रमा कर रहा है, इसलिए 978 करोड़ रुपये लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन का सबकुछ समाप्त नहीं हुआ है।मीडिया को इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत ही नुकसान हुआ है।उन्होंने बताया कि लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर के नुकसान के बाद भी मिशन का 95 प्रतिशत हिस्सा सफल रहा।

अधिकारी ने बताया कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है। यह ऑर्बिटर एक साल तक चंद्रमा की तस्वीरें इसरो को भेजेगा। ऑर्बिटर कुछ समय बाद लैंडर की तस्वीरें भी भेज सकता है। इससे लैंडर की स्थिति के बारे में पता चल सकता है। 3.8 टन वजन वाला ऑर्बिटर अभी भी देश की उम्मीदों पर काम कर रहा है।


हम होंगे कामयाब एक दिन।

‘‘हम होंगे कामयाब, मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास, हम होंगे कामयाब एक दिन।’’ भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शनिवार को चंद्रयान-2 अभियान के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए लोकप्रिय गीत की पंक्तियों का प्रयोग कर उम्मीद जताई कि भारत अगली बार अपने चंद्र अभियान में सफल होगा। 

उन्होंने कहा कि जब वह श्रीहरिकोटा गए थे, तो उन्होंने खुद विशालकाय वाहक ‘‘बाहुबली’’ को देखा था।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने 3.84 लाख किलोमीटर की यात्रा सफलता के साथ पूरी की। केवल 2.1 किलोमीटर रह गए थे। इतने बड़े स्तर पर बची दूरी मामूली सी है। यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा- हम होंगे कामयाब, मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास हम होंगे कामयाब एक दिन।’’

राष्ट्रपति ने वैज्ञानिकों की प्रशंसा करते हुए कहा कि आने वाले समय में इसरो के अध्यक्ष के सिवन और उनकी टीम हमारे लिए आदर्श होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘‘हम बहुत करीब पहुंच गए थे लेकिन अभी हमें और आगे जाना होगा। आज से मिली सीख हमें और मजबूत तथा बेहतर बनाएगी। देश को हमारे अंतरिक्ष कार्यक्रमों और वैज्ञानिकों पर गर्व है। हमारे अंतरिक्ष कार्यक्रम में अभी सर्वश्रेष्ठ होना बाकी है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘प्रयास सार्थक रहे और यात्रा भी। यह हमें और मजबूत तथा बेहतर बनाएगी। एक नयी सुबह होगी और बेहतर कल होगा। मैं आपके साथ हूं, देश आपके साथ है।’’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी ट्वीट किया,‘‘हमें हमारे वैज्ञानिकों पर गर्व है। इसरो टीम ने चंद्रयान 2 के लिए कड़ी मेहनत की।’’उन्होंने इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई दी और कहा कि देश उनके साथ है।

पश्चिम बंगाल से नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसाद शैला अहमद ने चंद्रयान-2 के लिए इसरो के वैज्ञानिकों की प्रशंसा की और कहा कि पूरे देश को उनके प्रयासों पर गर्व है।

प्रतिक्रियाएँ:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget