सिंगरौली : जिले में धड़ल्ले से आठवीं तक की मान्यता लेकर पढ़ा रहे 10वीं-12वीं !


ओम प्रकाश शाह 
सिंगरौली।।जिले में स्कूल आठवीं तक की मान्यता पर धड़ल्ले से बारहवीं तक की कक्षाएं जो अटैचमेंट के साथ चल रहे हैं। यह बात जिला शिक्षा अिधकारी भी जानते हैं,क्योंकि मान्यता की जानकारी शिक्षा विभाग के पोर्टल पर ही उपलब्ध है। समय-समय पर स्कूलों के मानकों की जांच तो होता ही होगा,या, कभी स्कूलों की जांच होती ही नहीं ? दोनों ही बात बेहद चिंताजनक है, बात जो भी हो आखिर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवार करने वालों बगैर मान्यता प्राप्त स्कूलों पर शिक्षा विभाग नकेल क्यों नहीं कसती?
कैसे चलता है यह कमाई का गोरख धंधा 

स्कूलों में मान्यता से अधिक कक्षाएं संचालित कर छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। छठी कक्षा की मान्यता वाले स्कूलों में 8वीं, 10वीं की मान्यता वाले 11वीं व 12वीं की कक्षाएं चला रहे हैं। ऐसे छात्रों का नाम किसी मान्यता प्राप्त स्कूल में लिखा दिया जाता है। इसकी एवज में स्कूल संचालक को निश्चित राशि दी जाती है। बिना मान्यता कक्षाएं संचालित करने वाले छात्रों से मनमानी फीस वसूल रहे हैं। इससे मान्यता प्राप्त स्कूलों को भारी नुकसान हो रहा है। 

नेताओं के संरक्षण मे बिना मान्यता का स्कूल चलाने का कौन सा नया कानून है? 


जब हमारे संवाददाता ने स्काइलार्क स्कूल से मान्यता के संबंध मे जानकारी पूछा तो उन्होने एक प्रतिष्ठित नेता का नाम लेते हुए यह जताना चाहा की उनके संरक्षण मे यह स्कूल चल रहा है,तो क्या जिले में स्कूलों का मान्यता कोई राज नेता देता है? स्काइलार्क के वेबसाइट पर पर भी मान्यता संबंधी कोई जानकारी नहीं है।और जब इसके संबंध में जिला शिक्षा आधिकारी से बात किए तब उन्होने कैमरे पर तो कुछ भी कहने से मना कर दिया लेकिन यह बात जरूर कहा की ऐसे स्कूलों की जांच कर आपको अपनी प्रतिक्रिया दे पाऊँगा।

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget