NCLनिगाही परियोजना : वह कौन कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी है जिसके आगे कायदे कानून लागू करने वाले बौने साबित हो रहें हैं!


उर्जांंचल टाईगर,कार्यालय,बैढन 

निगाही परियोजना में एक कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी की चर्चा खूब है,क्योंकि सभी कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी पर रोटा सिस्टम लागू करने वाले साहेब उस ख़ास कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी के सामने मौन हैं जिनकी गाड़ियां उनके मनमर्जी से आती जाती है। 

चर्चित ख़ास कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी के दबदबे का अंदाज़ा इस बात से ही लगाया जा सकता है की उस ख़ास कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी को छोड़कर  सभी दूसरी कोयला ट्रांसपोर्ट कंपनियों की गाड़ियां तो लाइन लगा कर चलती है और व्यक्ति विशेष कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी की गाड़ियां मनमाने ढंग से, आप भी देखें वीडियो में।

मनमाने तरीके से वीडियो में जो गाडियां आउट लाईन से बैरियर के अंदर जा रही है वह सभी गाडियां महावीर कोल ट्रांसपोर्ट की गाडियां है।

निगाही परियोजना के सेल्स मैनेजर दीपक सिंह एक सुलझे हुए अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं लेकिन जब से निगाही सेल्स मैनेजर की जिम्मेदारी उन्हें मिली है तभी से देखा जा रहा है उनके नेतृत्व में निगाही कोल परिवहन पूरी तरह नियम कानून से चलाए जा रहे हैं कभी भी किसी प्रकार की लापरवाही उन्हें बर्दाश्त नहीं हुई और उनके द्वारा कई बार कार्रवाई भी कराई गई। बावजूद इसके निगाही मे केवल एक कोयला ट्रांसपोर्ट कंपनी को मनमर्जी करने का आजादी कहा से और कैसे मिला यह बात की चर्चा आम है। लोगों को इंतज़ार है क्या सेल्स मैनेजर दीपक सिंह ऐसे कोल ट्रांसपोर्ट कंपनी के ऊपर कोई कार्यवाही करते हैं जो परियोजना के नियम कानून को दरकिनार कर परियोजना में अपना नियम कानून लागू कर अपने वाहन चलवा रहे हैं या नहीं ?

दूसरी तरफ उन मोटर मालिकों का दर्द और तकलीफ देखने वाला भी निगाही परियोजना में कोई नहीं है जिनकी गाड़ियां लाइन लगाकर सुबह से शाम तक बेरियल पर पहुंचती हैं और जब बैरियर पर पहुंचने के बाद टाइम खत्म हो जाता है तब उस मालिक के दिल पर क्या गुजरता है ऐसे मे मोटर मालिक क्या करें कहां जाए उनकी परेशानियों को कोई नहीं समझता।

Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget