बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है,नवरात्री का पर्व- संजय शाह


सिंगरौली।। हिंदुओं के सबसे खास त्योहार भारत में लगभग सभी जगहों पर नवरात्री की धूम देखने को मिलती है। इसे अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है।

ऐसा माना जाता है कि सबसे पहले भगवान श्रीराम ने इस नवरात्रि पूजा की शुरुआत लंका पर चढाई करने से पहले समुद्र तट पर किया था जिससे वे श्रीलंका के राजा रावण पर विजय प्राप्त कर सकें। लगातार नौ दिनों तक मां दुर्गा की उपासना करने के बाद दसवें दिन उन्होंने लंका विजय के लिए प्रस्थान किया था। जिसमें रावण से घमासान युद्ध के बाद उनकी विजय हुई थी।

माना जाता है कि तभी से असत्य, अधर्म पर सत्य व धर्म की जीत के पर्व को दशहरा के रूप में मनाया जाता है और दशहरे से पहले के नौ दिनों को नवरात्रि के रूप में मनाया जाता है।

जिले के माड़ा क्षेत्र के ग्राम पंचायत क्षेत्र के ग्राम- मलगा में धूमधाम से बनाया जा रहा है नवरात्री का पर्व।नौ दिनों तक देवी मां के अलग-अलग स्‍वरूपों की पूजा की जाती है,श्रद्धालु पूरे नौ दिनों तक व्रत रखते हैं। पहले दिन कलश स्‍थापना की गयी और अष्‍टमी या नवमी के दिन कुंवारी कन्‍याओं को भोजन कराया जायेगा।
संजय कु शाह

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget