मध्यप्रदेश : किसान का प्याज़ सस्ता और दुकानदार का मंहगा क्यों?


भारतीय राजनीति में प्याज की अहम भूमिका भी रही है। 1998 में जब अटल बिहारी की सरकार थी, उस वक्त भी प्याज ने काफी रुलाया था। तब अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि जब भी केंद्र में कांग्रेस की सरकार नहीं होती है तो, प्याज परेशान करने लगता है। शायद उनका इशारा यह था कि प्याज के दाम बढ़ने के पीछे कांग्रेस का हाथ होता है। उस समय दिल्ली प्रदेश में बीजेपी की सरकार थी और विधानसभा चुनाव नजदीक थे। जिसका डर था वही हुआ। चुनाव हुआ और बीजेपी की सरकार गिर गई। शीला दीक्षित मुख्यमंत्री बनीं। लेकिन, साल 2013 में एक बार फिर से दिल्ली की जनता को प्याज ने रुलाना शुरु कर दिया और देखते ही देखते शीला दीक्षित की भी कुर्सी चली गई।

एक बार फिर से प्याज अहम मुद्दा बना हुआ है।आज देश के हर बाजार में प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं लेकिन, क्या आपको पता है कि यह प्याज किसानों से कितने रुपये में खरीदा जा रहा है?

फोटो सोर्स : गांव कनेक्शन

मध्यप्रदेश के मंदसौर के बाजार में किसानों से प्याज 20 रुपये से लेकर 31 रुपये तक खरीदा जा रहा है। बीते सोमवार को जब एक किसान प्याज की बोरियों के साथ बाजार पहुंचा तो उसके प्याज की किमत 3100 रुपये/क्विंटल लगाई गई। मध्य प्रदेश, जिला मंदसौर के किसान उदयराम देवीलाल कहते हैं,
सोमवार को जब मंडी पहुंचा तो वहां प्याज की कीमत 3,500 रुपये प्रति क्विंटल तक थी। मेरा प्याज थोड़ा ठीक था तो मुझे 3,100 रुपये क्विंटल मिल गया जबकि, छोटे साइज वाला प्याज 2,000 रुपये प्रति क्विंटल ही बिका। 10 दिन पहले यही प्याज 6,000 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बिका था।
मतलब यह है कि अगर कोई किसान बाजार में प्याज बेचने के इरादे से जाता है तो उसकी कीमत 20 रुपये से 35 रुपये प्रति किलोग्राम तक लगाई जाएगी लेकिन, अगर वही प्याज वह किसान बाजार से खरीदने के लिए जाए तो, उसकी कीमत 100 रुपये से लेकर 200 रुपये प्रति किलोग्राम देनी पड़ेगी।

मतलब प्याज के दाम बढ़ जाने से किसानों को भी इसका फायदा होगा तो बिलकुल यह गलत है। किसान पहले भी इसी रेट पर प्याज बेच रहे थे और अभी भी वही रेट है।

केवल प्याज की मार बाजार से खरीदने वाले ग्राहकों की जेबों पर पड़ी है। इसकी सबसे बड़ी वजह है कि बारिश न होने से प्याज की क्वालिटी में गिरावट आई है। इसलिए किसानों को उनके प्याज की सही कीमत नहीं मिल पा रही है। लेकिन, मार्केट में किसी भी प्याज की कीमत एक जैसी ही होने से दुकानदारों को अधिक फायदा  हो रहा है।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget