मोरवा पुलिस ने 2 वर्षों से लापता नाबालिका को ढूंढ कर परिजनों से मिलाया । SINGRAULI NEWS


बीते 1 वर्ष में निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह के निर्देशन में पुलिस टीम ने 9 युवतियों को किया दस्तयाब

मोरवा।।नवागत पुलिस अधीक्षक टी के विद्यार्थी द्वारा सिंगरौली शहर से पूर्व में गुम हुए नाबालिक बालक व बालिका को गंभीरता से लेते हुए उनके तुरंत के दस्तायबी के निर्देश दिए गए थे। जिसे गंभीरता से लेते हुए, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप शिंदे के मार्गदर्शन व एसडीओपी मोरवा नीरज नामदेव एवं निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह के द्वारा गोरबी प्रभारी संदीप नामदेव के नेतृत्व में गुम इंसान के दस्तायबी हेतु टीम गठित की गई। गठित पुलिस टीम ने वर्ष 2018 में गुम नबालिका को खीरी इलाहाबाद से ढूंढ निकाला गया। बीते दिन मजिस्ट्रेट के सामने नाबालिका का बयान कराकर उसे उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।

क्या था पूरा मामला

जानकारी अनुसार 11 नवंबर 2018 को गोरबी निवासी एक फरियादी परिजनों द्वारा चौकी में अपनी 16 वर्षीय पुत्री के गुम होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, जिसपर मामले में संज्ञान लेते हुए थाना मोरवा में 363 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था। गायब नाबालिका की दस्तायबी हेतु पुलिस टीम ने कई बार प्रदेश के विभिन्न जिलों के साथ राजधानी दिल्ली, इलाहाबाद व गुजरात के कई इलाकों में नाबालिगों की तलाश की गई परंतु हर बार उन्हें नाकामी हाथ लगी। इस पर भी पुलिस ने आस नहीं छोड़ी और लगातार प्रयास का यह नतीजा रहा की अथक प्रयासों के बाद मुखबिर की सूचना पर नाबालिका को इलाहाबाद के खीरी से ढूंढकर उनके परिजनों को सौंप दिया गया। 2 वर्षों बाद नाबालिका पुत्री को देखकर परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा और वह पुलिस की सराहना करते दिखे।

पुलिस ने कैसे ढूंढना नाबालिका को

जानकारी अनुसार बीते 2 वर्षों में नाबालिका द्वारा अलग-अलग शहरों से अपने परिवार को संपर्क किया जा रहा था। सायबर सेल की मदद के आधार पर पुलिस विभिन्न जगहों पर नाबालिका को ढूंढ रही थी। पुलिस सूत्रों की माने तो नाबालिका द्वारा दिल्ली के मशहूर दिल्ली कैटरर के यहां काम कर रही थी, जिसके आधार पर पुलिस ने कैटरिंग सर्विस से संपर्क साधा और उनके जानकारी अनुसार इलाहाबाद में हो रही एक शादी समारोह में शरीक होने गई नाबालिका को खीरी इलाहाबाद से ढूंढ निकाला।

बीते वर्ष में 9 युवतियों को किया दस्तयाब

बीते 1 वर्ष में बरगवां व मोरवा थाने की कमान संभालते हुए निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह एवं उपनिरीक्षक संदीप नामदेव द्वारा 9 गुमशुदा युवतियों को ढूंढ लिया गया। इनमें से 5 नाबालिका ऐसी हैं जो झूठे प्रेम जाल एवं अपहरणकर्ताओं के चंगुल में फंसकर अपनी अस्मत भी गंवा चुकी थी। जानकारी अनुसार इनमें से कई ने तो अपने परिजनों से मिलने की उम्मीद भी छोड़ दी थी परंतु यह सिंगरौली पुलिस की सक्रियता का नतीजा रहा कि उन्होंने मध्यप्रदेश के इंदौर, जबलपुर के अलावा राजस्थान, उत्तर प्रदेश समेत अन्य जगहों से ढूंढकर इन्हें अपने परिवार से मिला दिया।

इस कार्यवाही में इनकी रही भूमिका

इस कार्यवाही में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह व उपनिरीक्षक संदीप नामदेव व इनकी टीम के सउनि सुरेश सिंह, प्रआर. अरुण सिंह, आर प्रदीप, विष्णु मआर ज्योति की सराहनीय भूमिका रही है।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget