HUMAN TRAFFICKING CASE : सरई पुलिस ने 7 मानव तस्करों को धरदबोचा


सरई से धर्मेन्द्र शाह

सरई(सिंगरौली)।। पुलिस अधीक्षक अभिजीत रंजन द्वारा चलाये गये मानव तस्करी के माफिया के बिरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत टी.आई.निरीक्षक शंखधर द्विवेद के नेतृत्व मे मानव तस्करी के 7 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मानव तस्करों के चंगुल से पुलिस ने एक शादीशुदा महिला को छुड़ाया है। 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप शेण्डे एवं एस.डी.ओ.पी देवसर श्रीलाल देव सिंह के सतत निगरानी में थाना सरई द्वारा मुखबिर तैनात किये गये थे। जिनके द्वारा मानव तस्करी के संबध में सूचना मिली कि गन्नई गाँव का दयाराम साकेत जिसकी रिश्तेदारी सागर रहली क्षेत्र मे है, अपने रहली बाले रिश्तेदार नाथूराम के माध्यम से अलीगढ मथुरा तरफ से लडकियों के खरीददारो को बुला कर अपने दमाद प्रकाश व उसके साथी अखिलेश,रफीक के साथ मिलकर पचास हजार रुपये मे एक लडकी बेचे है।और उसका पैसा आपस मे बाट लिये है। 

सूचना की तस्दीक व जाँच की गई जाँच के दौरान दयाराम पिता ज्ञान साकेत निवासी गन्नई रामप्रकाश उर्फ प्रकाश पिता श्यामलाल साकेत निवासी चौरा,अखिलेश उर्फ देवराज साकेत पिता जनकलाल साकेत निवासी सुहिरा , रफीक उर्फ बचऊ उर्फ राकेश पिता रहमत तुल्ला निवासी चिनगीटोला व नूरजहाँ उर्फ सुनीता पत्नी रफीक उर्फ राकेश निवासी चिनगी टोला से पूछताछ कर कथन लिया तो पाया की गन्नई गाँव का रहने वाला दयाराम पिता ज्ञान साकेत की लडकी चौरा गाँव मे रामप्रकाश साकेत को व्याही है। 

रामप्रकाश साकेत का रिश्ते का भाई अखिलेश सुहिरा मे रहता है जिसकी ससुराल बरगवाँ थाना क्षेत्र के तेलदह मे है जहा आने जाने के दौरान उसकी मित्रता रफीक उर्फ बचऊ से थी। दयाराम ने अपने दमाद व अखिलेश रफीक के साथ मिलकर रफीक की बीबी को सुनीता नाम से व रफीक को राकेश के नाम से बताकर सुनीता को राकेश की बहन के रुप मे पेश कर बेचने का प्लान बनाया। दयाराम के चाचा के लडके रामचरित्र साकेत के भाई जमुना की रिश्तेदारी ग्राम खैराना थाना रहली के नाथूराम अहिरवार के घर मे है,नाथूराम की जान पहचान अलीगढ के लक्ष्यमण सिहं जाट से है, दयाराम ने नाथूराम से अपने पास एक लडकी बिक्री के लिये उपलब्ध होने की बात बताया था,नाथूराम ने अपनी जान पहचान के लक्ष्यमण को लडकी उपलब्ध होने की बात बताया और दयाराम को ग्राहक उपलब्ध होने की बात बताया था। तब दयाराम ने नाथूराम व अलीगढ वाली पार्टी को लडकी खरीदने हेतु बुलाया तो दिनाँक 06.02.2020 को नाथूराम अपने साथ लक्ष्यमण सिहं पिता सुखराम सिहं निवासी अलीगढ अनिल कुमार पिता कालीचरण निवासी अलीगढ को पसेन्जर ट्रेन से लेकर गजराबहरा आया जहाँ उन्हे दयाराम मिला वहाँ से दयाराम ने अपने दमाद रामप्रकाश व अखिलेश को पार्टी आ जाने की बात लडकी बेचने की प्लानिंग किया तथा वहाँ से आटो मे बैठकर चौरा पहुचा चौरा से दमाद रामप्रकाश को साथ लिया फिर सुहिरा पहुचे फिर सुहिरा से अखिलेश साकेत को लिये इन लोगो ने परसौना मे रफीक उर्फ राकेश व नूरजहाँ उर्फ सुनीता को बुलवाया व सभी लोग परसौना मे कन्वेयर के पास इकठ्ठे हुये वहा नूरजहाँ को रफीक उर्फ राकेश की बहन सुनीता के नाम से लक्ष्मण व अनिल को मिलवाये पचास हजार मे लडकी देने की बात तय हुई तब लक्ष्मण ने परसौना मे ए.टी.एम. से 25 हजार निकाले पैसे पूरे नही निकले तो रफीक उर्फ राकेश ने लडकी देने से मना कर दिया और लडकी सुनीता उर्फ नूरजहाँ को लेकर चला गया तब बाकी लोग बरगवाँ आये धौरड मे राजेश साकेत के घर मे रात मे रुके सुबह 07.02.2020 को लक्ष्मण ने बरगवाँ मे ए.टी.एम. से 25 हजार रुपये और निकाले तब अखिलेश ने फोन करके रफीक उर्फ राकेश व लडकी लेकर बरगवाँ बुलाया और राकेश उर्फ रफीक नूरजहाँ उर्फ सुनीता को लेकर बरगवाँ आया सभी लोग स्टेशन मे इकठ्ठा हुये वहाँ नूरजहाँ को सुनीता बताकर रामप्रकाश ने लक्ष्मण से 45 हजार रुपये लिये और नूरजहाँ उर्फ सुनीता को लक्ष्मण सिहं, व नाथूराम को सुपुर्द कर दिया। 

मिले पैसे मे से राकेश उर्फ रफीक को राप्रकाश ने 20 हजार दिये जिसे लेकर वो चला गया 5 हजार रुपये नाथूराम को दिये जो शक्तिपुंज ट्रेन आने पर लक्ष्मण,अनिल, नूरजहाँ उर्फ सुनीता के साथ ट्रेन मे बैठकर कटनी तरफ रवाना हुआ। शेष पैसे लेकर दयाराम ,रामप्रकाश ,अखिलेश गन्नई आये जहाँ दयाराम के घर मे पैसो का बटवारा हुआ जिसमे सात हजार रुपये अखिलेश को,आठ हजार रामप्रकाश व पाच हजार दयाराम को मिले। लडकी सुनीता उर्फ नूरजहाँ ने बताया की ट्रेन मे इनके साथ जाने के दौरान सरईग्राम के आगे लक्ष्मण,अनिल , नाथूराम उससे शरीरिक छेडछाड करने लगे उसके द्वारा मना करने पर बोले की पैसे देकर खरीदा है जो चाहेंगे करेंगे तब ये घबराकर मडवास स्टेशन मे उतर गई। 

आरोपियों के विरूध्द अपराध क्र 104/2020 धारा 120B,109,370(2),354,366, भा.द.वि. का अपराध दर्ज किया गया। आरोपियों के नाम 
1.दयाराम साकेत पिता ज्ञान साकेत सा. गन्नई थाना सरई
2.अखिलेष उर्फ देवराज साकेत पिता जनकलाल साकेत सा. सुहिरा थाना माड़ा
3.रफीक मोहम्मद उर्फ बचऊ उर्फ राकेश पिता रहमतउल्ला सा. चिनगी टोला थाना बरगवां
4.रामप्रकाश उर्फ प्रकाश साकेत पिता श्यामलाल साकेत सा. चैरा थाना माड़ा
5.लक्ष्मण सिंह जाट पिता सुखराम सिंह जाट
6.अनिल कुमार जाट पिता कालीचरण जाट दोनो निवासी मेहवला थाना इगलास जिला अलीगढ़ उ.प्र.
7.नाथूराम अहिरवार पिता अर्जुन अहिरवार सा. खैराना थाना रहली जिला सागर म.प्र. 
सभी आरोपियों को अभिरक्षा में लिया गया तथा पूछतांछ एवं उनके मेमोरण्डम कथन पर मानव तस्करी मे खरीद फरोक्त में मिली रकम की जप्ती कर आरोपीगणों को गिर0 किया गया है जिन्हे न्यायिक निरोध में न्यायालय पेश किया है। 

इन्होने निभाया महत्वपूर्ण भूमिका 

निरीक्षक शंखधर द्विवेद,उपनिरीक्षक सुधांशु सिंह चैहान,सउनि.शेषमणि टांड़िया,सउनि. सूर्यपाल सिंह ,प्र.आर. 348 मानेखान,प्र.आर. 182 नीलेश मिश्रा ,आर0 388 केशव सिंह बघेल,आर. 507 सुनील यादव, आर. 137 जीतेन्द्र अहिरवार,आर.बबलू यादव,आर.456 वंशलाल प्रजापति,म.आर.765 मीना धुर्वे,म.आर.350 नेहा तिवारी म.आर.760 सावित्री तिवारी क्राइम ब्रांच टीम प्रभारी वी.के.पाठक प्र.आर. पंकज सिंह चंदेल आर. अमित जायसवाल,अतुल तिवारी सायवर सेल के आर. विजय खरे की महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget