गोभा : पढ़ाने के बजाय शिक्षक घूमते हैं बाहर, बच्चे करते हैं मनमानी।


श्रीराम विश्वकर्मा की रिपोर्ट

गोभा(सिंगरौली)।। जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर स्थित गोभा के धुम्माडाढ़ में शासकीय माध्यमिक शाला जिसमे बच्चे एवं शिक्षक का कोई पता नही रहता। बच्चों से नाम पूछने पर अपना नाम तक नही लिख पाते बच्चे कुल 51 बच्चे और कक्षा में केवल 8-10 बच्चे मिले बाकी बच्चे एवं शिक्षक लापता थे। आखिर ऐसे गैर जिम्मेदारों शिक्षकों पर कार्यवाही कब होगी जो बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

पत्रकारों का हमारे विद्यालय में आना मना है। 

उर्जांचल टाईगर की टीम जब धुम्माडाढ़ के विद्यालय पर पहुंची तो अपनी वहां पर पदस्थ महिला शिक्षक और अतिथि जन शिक्षक पत्रकारों को देखते ही बोलना शुरु कर दिए कि हमारे विद्यालय के गेट के अंदर में पत्रकारों का आना मना है। जब उनसे पूछा गया कि ऐसा आपने क्यों बोला? तो वहां पर पदस्थ महिला टीचर जो उस विद्यालय की प्रभारी हैं तपस्या कोल ने बताया कि जिला शिक्षा अधिकारी ने पत्रकारों को विद्यालय में आने से मना कर रखा है और बोला जो भी पत्रकार आए तो उसे बता देना जब हमने उनसें आदेश की कॉपी मांगा तो उन्होंने आदेश कॉपी भी नहीं दिखाया।

क्या कहना है शिक्षा अधिकारी का 
जब हमारे संवाददाता ने जिला शिक्षाधिकारी से मीडिया संस्थानों पर कथित रूप से बताए गए प्रतिबंध के विषय में पूछा तो उन्होने ऐसे किसी भी आदेश से इंकार कर दिया।
वहां पर पदस्थ विद्यालय की प्रभारी तपस्या कोल और अतिथि शिक्षक ने अपनी कमियों को छुपाने के लिए पत्रकारों को डराने की कोशिश की।कक्षा पांचवी में पढ़ने वाले बच्चों को। टीचर तपस्या कोल ने अपने स्टाइल में समझाया बच्चों ने पत्रकारों से बातचीत करने से मना कर दिया बच्चों ने साफ कहा हमें आप लोगों से बात नहीं करना।
लेबल:
प्रतिक्रियाएँ:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget