मप्र में राज्यपाल लालजी टंडन ने पाँच मंत्रियों को दिलाई शपथ ।


भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शपथ लेने के 29 दिन बाद आज पांच सदस्यीय मंत्रिपरिषद का गठन किया। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के बीच राज्यपाल लालजी टंडन ने राजभवन में एक सादे समारोह में इन सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री ने जिन पांच सदस्यों को अपने मंत्रिपरिषद में शामिल किया है उनमें तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, नरोत्तम मिश्रा, मीना सिंह एवं कमल पटेल शामिल हैं।

इनमें से तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं। ये दोनों कमलनाथ के नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री थे और सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद उन 22 विधायकों में शामिल थे जो पिछले महीने कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए थे।

इन 22 विधायकों का​ विधानसभा की सदस्यतता से दिया गया इस्तीफा भी मंजूर हो गया था, जिसके बाद कमलनाथ की सरकार अल्पमत में आ गई थी और उन्होंने मुख्यमंत्री के पद से 20 मार्च को इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद 23 मार्च को चौहान के नेतृत्व में भाजपा नीत सरकार सत्ता में आई और 24 मार्च को उन्होंने मध्य प्रदेश विधानसभा में अपना बहुमत साबित कर दिया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान,पूर्व केन्द्रीय मंत्री उमा भारती, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा और पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी उपस्थित थे। इस समारोह में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सामाजिक मेल जोल से दूरी का भी विशेष ध्यान रखा गया था ।

इसी बीच, भाजपा के एक नेता ने बताया कि मुख्यमंत्री चौहान 29 दिन तक अकेले ही अपनी कैबिनेट के सदस्य रहे। यह देश में एक रिकार्ड है। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री सहित 34 सदस्य मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकते हैं। संभावना जताई जा रही है कि कोरोना वायरस के चलते तीन मई जारी लॉकडाउन के खत्म होने के बाद चौहान अपने मंत्रिपरिषद का विस्तार कर सकते हैं।
Reactions:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget