सैनिटाइजर, मास्क और राशन की कालाबाजारी पर होगी सख्त कार्रवाई - मुख्यमंत्री

Strict action will be taken against black marketing of sanitizer, mask and ration - Chief Minister


भोपाल।। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में कोरोना संकट की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की आज मंत्रालय में गहन समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि प्रदेश में कहीं भी मास्क, सैनिटाइजर और खाद्य सामग्री आदि की कालाबाजारी नहीं होनी चाहिए। यह सब निर्धारित दाम पर ही बेचा जाना चाहिए। श्री चौहान ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति कालाबाजारी करता है और निर्धारित दाम से अधिक दाम में इन्हें बेचता है, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मास्क और सैनिटाइजर निर्धारित कीमत पर बिकें

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मास्क एवं सैनिटाइजर भारत सरकार द्वारा निर्धारित कीमत पर ही बेचे जाने चाहिए। सभी जिलों में कलेक्टर यह सुनिश्चित करें कि मास्क और सैनिटाइजर अधिक कीमत पर न बेचे जाएं। इसके लिए मुख्यमंत्री ने इनकी कीमतें को प्रचारित करने के निर्देश दिए ।


सोशल मीडिया पर मिली शिकायतों का त्वरित निराकरण

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ स्थानों से राशन की कालाबाजारी की शिकायतें आ रही हैं, इन पर सख्त कार्रवाई की जाए। प्रदेश में 97.5 लाख परिवारों को राशन का वितरण किये जाने की जानकारी पर मुख्यमंत्री ने क्रॉस चैक करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर प्राप्त शिकायतों का भी त्वरित निराकरण किया जाए।

जरा-सा भी लक्षण दिखे, तो तुरंत कराएं टेस्ट

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि किसी भी व्यक्ति में कोरोना का जरा-सा भी लक्षण दिखाई देने पर तुरंत कोरोना टेस्ट करवाया जाए, कोई छूटे नहीं। यदि कोई भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति बिना टेस्ट के छूटता है, तो उससे कई लोगों को संक्रमण की आशंका बनी रहती है। उन्होने कहा कि इस कार्य में ढिलाई न बरती जाए।

मुख्य सचिव इक़बाल सिंह बैंस ने समीक्षा के दौरान बताया कि वर्तमान में कोरोना टेस्टिंग किट्स का स्टॉक 4050 का है, जो पर्याप्त है। आगे भी इनका आना जारी रहेगा। हमारी वर्तमान टेस्ट क्षमता 480 है, जो आगामी 10 अप्रैल तक 1000 हो जाएगी। हमारे पास पीपीई किट्स की संख्या 6000 हो गई है। मध्यप्रदेश में बनी किट्स को डीआरडीओ ने एप्रूव कर दिया है। इस पर मुख्यमंत्री ने बधाई दी तथा कहा कि आवश्यकता से अधिक किट्स होने पर हम अन्य राज्यों को भी दे सकते हैं। पीपीई किट को पहनने से कोरोना संकट में कार्य कर रहे अमले में आत्मविश्वास आता है। हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन गोलियां 2.5 लाख हैं तथा और आ रही हैं। एन 95 मास्क की संख्या 43750 है, जो पर्याप्त है। आवश्यकता अनुसार सभी जिलों को निशुल्क मास्क भिजवाए जा रहे हैं।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget