वाराणसी में लागू होगी "अडॉप्ट ए लोकेलिटी" योजना

वाराणसी में लागू होगी "अडॉप्ट ए लोकेलिटी" योजना


अंकुर पटेल(विशेष संवाददाता)

"जो भी इस व्यवस्था से जुड़ना चाहें वो संस्थाएं फ़ूड सेल हेल्प लाइन  0542-2283305

0542-2283306 या DO फ़ूड सेफ्टी के नंबर 9044261361 पर सम्पर्क करें।"

वाराणसी में पिछले कुछ दिनो में फ़ूड पैकेट और राशन किट वितरण की आज समीक्षा की गई।
यह पाया गया कि प्रतिदिन 17000 से ज्यादा फ़ूड पैकेट दिन में और इतने ही रात में VDA की फ़ूड सेल के द्वारा बांटा जा रहा है। सभी थानों के माध्यम से ये फ़ूड पैकेट बंट रहे हैं, इनके अलावा सीधे थानों के द्वारा भी फ़ूड पैकेट बांटे जा रहे हैं परंतु फिर भी मांग बढ़ती जा रही है।
आज कुछ जगहों पर जिलाधिकारी और उपाध्यक्ष VDA द्वारा भ्रमण कर थानों पर फ़ूड पैकेट वितरण का जायजा लिया गया। अधिकतर स्थानों पर यह पाया गया कि लोगों को कोटे का राशन या सरकारी या सामाजिक राशन किट मिली है वो लोग भी फ़ूड पैकेट प्राप्त कर रहे हैं।
पिछले 2 दिनों में समाचार पत्रों में छपी खबरों का भी सत्यापन कराया गया। कुछ मामलों में राशन किट बंटी है फिर भी लोगो को फ़ूड पैकेट न मिलने की शिकायत समाचार पत्रों में छपी है।
संकट मोचन के कुष्ठ आश्रम, कोनिया आदि में राशन किट बंटी थी फिर भी लोग फ़ूड पैकेट का इंतजार करते हैं और एक समय भी न पहुंचे तो उसे प्रचारित करते हैं।
यह प्रयास रहता कि जिसे राशन किट मिल जाये वो फ़ूड पैकेट वितरण से अलग हो जाये परंतु थाना, तहसील और VDA के कई बार समन्वय के बावजूद स्थिति ठीक नहीं हुई बल्कि पिछले कुछ दिनों में एक समय की मांग 13000 से बढ़ कर 17000 फ़ूड पैकेट पहुंच गई है और मुख्यतः इसमे डुप्लीकेसी ज्यादा है।
इसके साथ ही थाने के मोहल्लों के आंतरिक हिस्सो में फ़ूड पैकेट नही पहुंच पा रहे हैं
पूर्व में सामाजिक संस्थाओं के द्वारा भी किये जा रहे वितरण की भी समीक्षा की गई। इसके बाद प्रकरण पर विचार विमर्श के बाद यह सहमति बनी की पुरानी और नई दोनों व्यवस्थाओं का मिश्रण कर एक योजना लागू की जाए।इसे अडॉप्ट ए लोकेलिटी योजना बोला जाएगा।
कोई भी सामाजिक संस्था या व्यक्ति किसी भी मोहल्ले को अडॉप्ट कर सकता है और उस गोद लिए हुए मोहल्ले में राशन किट या फ़ूड पैकेट वितरित कर सकता है।
हर वार्ड में 3-5 मोहल्ले हैं। यदि संस्था छोटी है तो एक लोकेशन अडॉप्ट कर सकती है और बड़ी है तो पूरा वार्ड भी अडॉप्ट कर सकती है। इस प्रकार अपने मन पसंद क्षेत्र में संस्थाएं सभी जरूरत मंद लोगो को छांट कर उनकी सीधी मदद कर सकती हैं।
किसी भी लोकेशन / मोहल्ले को एक से ज्यादा संस्थाओं को नहीं दिया जाएगा ताकि डुप्लीकेसी न हो तथा मोहल्ले की सारी जरूरत एक ही संस्था को पूरी तरह पता हो।
कोई संस्था ज्यादा बडी है तो वो ज्यादा मोहल्ले या वार्ड भी अडॉप्ट कर सकती हैं। परंतु जो भी अडॉप्ट करेगा उसे पूरा मोहल्ला या लोकेशन कवर करनी होगी।
यदि उन्हें फ़ूड पैकेट की कमी पड़ती है तो VDA व FSDA के फ़ूड सेल से सहायता कराई जाएगी।
इस प्रकार राशन और भोजन जरूरत मंद तक बिना डुप्लीकेसी के पहुंच सकेगा।
यदि व्यवस्था सफल रहती है तो थानों से वितरण में कमी कराई जाएगी और बस्ती और मोहल्लों में ही वितरण कराया जाएगा।
संस्थाओं को भोजन बनाने वालों, सामान लाने के वाहन और वितरण करने वाले 2-3 वालंटियर्स के अलग रंग के पास बनवाये जाएंगे। ये पास बनने शुरू भी करा दिए गए है।
संस्था को वार्ड नं, मोहल्ला और लोकेशन स्पष्ट करनी आवश्यक होगी। जहा उनका किचन चलता होगा उसी वार्ड में उसे लोकेशन अडॉप्ट करने में वरीयता दी जाएगी। पास का प्रयोग केवल भोजन व्यवस्था के लिए ही अनुमन्य होगा। पास भी निश्चित संख्या में ही दिए जाने संभव होंगे।
नगर निगम के द्वारा संस्थाओं को वार्ड के पार्षदगण के साथ संपर्क करा दिया जाएगा ताकि उनके साथ भी समन्वय कर सकें और कौन कौन लोग जरूरत मंद हैं इसका पता लगा सकें। नगर निगम द्वारा वार्ड वार समन्वय के लिए अधिकारी भी नामित किये जा रहे हैं।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget