मई दिवस "मैं मजदूर हूँ"

मई दिवस


अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस की शुरुआत 1 मई 1886 को हुई, जब अमेरिका में कई मजदूर यूनियनों ने काम का समय 8 घंटे से ज्यादा न रखे जाने के लिए हड़ताल की थी। इस हड़ताल के दौरान शिकागो की हेमार्केट में बम धमाका हुआ था. ... भारत में मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत सबसे पहले चेन्नई में 1 मई 1923 को हुई थी। 

मजदूर भाई की तस्वीर 

दो ठो मजबूत हाथ
दो ठो बलिष्ट पाँव
बस इतना ही
और हमारी तस्वीरें हुई मुकम्मल

धड़ के ऊपर का अंश
सिरे से ही गायब क्यों ?

बीच में सिर होता है ना बच्चे
और सिर भीतर दिमाग
बस वही नहीं चाहिये यहाँ

यही दिमाग तो बेलगाम हरकतें करता है
और गड़बड़ इसकी हरकतों से पैदा होती है

ऐसे ही तो चित्रित होती है
देश-दुनिया के मजदूरों की तस्वीरें
धड़ विहीन सिर के

और सुनो,
इनमें रंग मत भरना
ये ऐसे ही शोभा देती हैं
श्वेत-श्याम नहीं तो सलेटी

कोमलता का एक भी लहराती वलय रेखा
यहाँ मत उकेरो

अब लाओ
ले आओ
यहीं बगल में अट्टा दो
सींगों वाले सिरों वाली प्रबुद्धजनों की रंगीन तस्वीरों को
यहाँ बगल में

इस तरह चित्रों के संसार में भी
दो दुनिया इकट्ठा होती हैं
विपरीत दिशाओं में जाने के लिए
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget